Save Unnao ki Beti :- खेत में मृत मिलीं दो दलित लड़कियाँ, तीसरी की हालत गंभीर

 Save Unnao ki Beti -उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के बबुराह गांव में बुआ-भतीजी (उम्र 13 और 16 साल) की मौत व एक किशोरी (उम्र 17 साल) के गंभीर रूप से घायल होने की घटना ने लोगों को हिला कर रख दिया है और पूरी सियासत गरमाई हुई है,  यह तीनों नाबालिक दलित लड़कियाँ  खेतो मे  बंधी हुई मिली थीं। 


Save-Unnao-ki-Beti
Save Unnao ki Beti (Twitter)

इस घटना के पता चलते ही तीनों लड़कियों को अस्पताल ले जाया गया जहां मौके पर तो को मृत घोषित कर दिया वहीं तीसरी लड़की की हालत गंभीर देख कर  UP सरकार  ने उसे  एयर एंबुलेंस की मदद से  दिल्ली के अस्पताल में  भेजा दिया गया है जिसकी पूरी ज़िम्मेवारी दिल्ली सरकार ले रही है ।

हाथरस कांड के बाद यह दूसरा बड़ा कांड है जिससे कि वहां के लोगों के जहन में खौफ पैदा हो गया है और लोग घबराए हुए हैं।

फिलहाल पुलिस ने स्वजन और ग्रामीणों से पूछताछ करना शुरू कर  दिया है,और पुलिस के हाथ कुछ अहम सुराग भी लगे हैं। पुलिस की तहकीकात के अनुसार वे इसे पॉइजनिंग का मामला बता रहे हैं।

पत्रकारों से बात करते हुए भाई ने कहा, -”वे  खेतों में घास लेने गए थे। काफी देर हो जाने के बाद जब वे तीनों घर नहीं लौटे तो हम उनकी तलाश करने के लिए खेतों की तरफ गए  तब हमने वहां उन्हें उनकी चुन्नी से उनके हाथ और पांव बांधा हुआ पाया । "

कांग्रेस नेता आराधना मिश्रा (Aradhana Mishra) ने भी इस घटना के संबंध में ट्वीट किया की-

"उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र में 3 बालिकाएं दुपट्टे से बंधी मिली, 2 बालिकाएं मृत मिली। 

दुर्भाग्यपूर्ण..

कैसे पढ़ेंगी बेटियाँ, कैसे बढ़ेंगी बेटियाँ

सरकार तमाशबीन है। 

बेटियों की होती निर्मम हत्या देश की बेटियाँ बर्दाश्त नहीं करेंगी। 

दोषियों पर तत्काल कठोर कार्यवाही हो।"

#saveunnaokibeti #Save_Unnao_Ki_Beti 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ